One Digital Id Kya Hai इन Hindi – एक डिजिटल आईडी से पैन-आधार संग ड्राइविंग लाइसेंस और पासपोर्ट

भारत में भी समय के साथ टेक्नोलॉजी में नए-नए परिवर्तन हो रहे हैं। भारत में भी बहुत जल्द भारत सरकार एक डिजिटल आईडी (One Digital Id) लाने वाली है।

भारत में समय-समय पर आईटी सेक्टर में भी काफी बदलाव आते रहते हैं और काफी रिसर्च के बाद नागरिकों के लिए कुछ यूनिक डाक्यूमेंट्स लाए जाते हैं। भारत में विकसित देशों की तरह लगातार कई सारे बदलाव कर रहा है।

सभी लोगों के मन में प्रश्न आ चुका है कि आखिरकार यह One Digital Id क्या है आज के इस आर्टिकल में हम आपको बताने वाले हैं कि One Digital Id क्या होती है।

यह भी पढ़े:

One Digital Id क्या है? What Is One Digital ID In Hindi?

One Digital Id Kya Hai - एक डिजिटल आईडी क्या है

2013 को पूरे भारत में आधार कार्ड प्रोजेक्ट को लॉन्च किया गया ताकि हर एक नागरिक के पास पहचान पत्र हो। आधार कार्ड के अलावा भी भारत में बहुत सारे पहचान पत्र हैं जैसे पैन कार्ड और वोटर आईडी कार्ड।

सरकार ने इस डिजिटल युग में एक डिजिटल आईडी (One Digital Id) लाने का ऐलान किया है।

One Digital Id के अंतर्गत सभी आईडी को एक साथ डिजिटल रूप से स्टोर कर दिया जाएगा। One Digital Id में आधार कार्ड पैन कार्ड पासपोर्ट और वोटर आईडी सभी कार्ड को एक जगह ऐड कर दिया जाएगा।

One Digital Id केंद्र और राज्य दोनों नागरिक के लिए आवश्यक है। One Digital Id को अभी लागू नहीं किया गया है लेकिन जल्द ही इसे भारत सरकार लागू कर सकती है। आधार कार्ड की तरह के 14 नंबर या 12 नंबर का डिजिटल आईडी कार्ड भी होगा।

Advertisement

सरकार का कहना है कि One Digital Id की सारी पावर व्यक्ति के हाथ में होगी जब चाहे इस आईडी का प्रयोग कर सकता है। One Digital Id को सरकार 27 जनवरी के बाद पब्लिक डोमेन में रखने वाली है।

यह भी जानिए: Digital Rupee Kya Hai? What Is Digital Rupee In Hindi? और कैसे काम करता है? सभी जानकारी!

One Digital Id में इस प्रकार से लिंकिंग की जा रही है ताकि आगे चलकर वेरिफिकेशन में किसी भी प्रकार की व्यक्ति को समस्या ना आए।

One Digital Id का उदाहरण अगर आप कभी जन सुविधा केंद्र में फॉर्म भरने गए और वहां पर आप अपना वोटर आईडी कार्ड ले जाना भूल गए। अगर आपके पास One Digital Id सिंगल आईडी है तो आप अपना वोटर आईडी नंबर सिंगल आईडी से निकाल सकते हैं।

One Digital Id का सबसे बड़ा फायदा ईकेवाईसी को मिलने वाला है और सरकार One Digital Id को सरकारी योजनाओं से जोड़ने में भी मदद करेगी।

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार One Digital Id से सरकार को नागरिक को डाटा एकत्रित करने में मदद मिलेगी।

One Digital Id को 2017 में प्रस्तावित किया गया था

One Digital Id को लाने की बात 2017 से चल रही है। सरकार ने 2017 में कहा था कि जल्द ही आईटी सेक्टर को बढ़ाने के लिए नागरिकों के One Digital Id बना सकते हैं।

One Digital Id को मॉडल को आईटी सेक्टर में निर्धारित किया है। केंद्र सरकार और राज्य सरकार के द्वारा सभी प्रमाण पत्र को या आईडी कार्ड को One Digital Id में Add कर दिया जाएगा।

लेकिन उस समय इस उद्देश्य से लाया गया था कि कैसे आईटी डेवलपमेंट से सरकारी संस्था को जोड़ा जाए। One Digital Id के वर्जन वन में केवल सरकार के लिए इसे बनाया गया था तब इसमें प्राइवेट सेक्टर को नहीं जोड़ा गया था।

Popular Post:

27 जनवरी 2022 को अंतिम तिथि है सुझाव देने की

One Digital Id के बारे में नागरिकों के क्या सुझाव है वह जनवरी तक दे सकते हैं इसके बाद One Digital Id वर्जन 2 को सरकार जल्द ही प्रस्तावित कर सकती है।

सरकार नागरिक की सुझाव के आधार पर ही One Digital Id को लॉन्च करेगी। वर्जन 2 में सरकार गवर्नमेंट और प्राइवेट दोनों के पास One Digital Id का डाटा रहेगा। इसमें प्राइवेट कम्पनी को भी राइट दिए है जबकि 2017 में प्राइवेट कम्पनी को राइट नहीं दिया गया था।

One Digital Id के फायदे

One Digital Id के बहुत सारे फायदे भी देखने के लिए मिल रहे हैं जैसे

  • One Digital Id के के माध्यम से व्यक्ति के सभी आईडी को एक साथ जोड़ दिया जाएगा।
  • One Digital Id से सभी आईडी कार्ड डिजिटल रूप में उपलब्ध रहेंगे।
  • One Digital Id में सभी आईडी कार्ड के एकत्रित होने से व्यक्ति कोई भी कार्ड डिजिटल रूप से प्रयोग कर सकता है।
  • सरकार के काम को आसान बनाने के लिए One Digital Id का प्रयोग केंद्र और राज्य सरकार दोनों ही कर सकती हैं।

One Digital Id नुकसान

जिस प्रकार One Digital Id के फायदे देखे जा रहे हैं उसी प्रकार इसके कुछ नुकसान भी है जैसे

  • कुछ लोगों का मानना है कि One Digital Id का एक भी नंबर किसी हैकर के पास पहुंच जाएगा तो किसी भी व्यक्ति का डाटा चोरी हो सकता है।
  • एक डिजिटल आईडी के एक्सेस मिलने से बहुत बड़ा रिस्क उत्पन्न हो सकता है।
  • इसका एक नुकसान यह भी है सरकार और आईटी सेक्टर के अलावा लोगों की आईडी कार्ड की जानकारी थर्ड पार्टी आने की कंपनियों के पास भी रहेगी बहुत सारे लोग ऐसे हैं जो थर्ड पार्टी को अपना डाटा शेयर नहीं करना चाहते क्योंकि कई बार थर्ड पार्टी डाटा का गलत इस्तेमाल करती है।

One Digital Id कब तक बनेगी

One Digital Id बनाने की घोषणा हुई है अभी बहुत सारी प्रोसेस है और जब तक यह प्रोसेस पूरी नहीं होती है तब तक वनडिजिटल आईडी नहीं बनेगी और इस आईडी को सरकार बना रही है।

जिसके कारण से यह सुप्रीम कोर्ट पर भी जा सकती है क्योंकि कई लोग वनडिजिटल आईडी का विरोध कर रहे बहुत सारे लोगों का मानना है कि जब आधार कार्ड है तो फिर वनडिजिटल आईडी कार्ड की आवश्यकता क्यों है लोगों का मानना है कि भारत में अधिकांश जनता इतनी भी शिक्षित नहीं है कि वह डिजिटल आईडी से अपने आधार कार्ड या पैन कार्ड का नंबर ले सके।

 दूसरी तरफ बहुत सारे लोग One Digital Id के सपोर्ट में भी दिख रहे हैं उन लोगों का मानना है कि One Digital Id के बहुत सारे फायदे हैं। जगह जगह डाक्यूमेंट्स ले जाने की आवश्यकता नहीं होगी और किसी भी डॉक्यूमेंट को एक जगह से निकाल सकते हैं।

27 जनवरी 2022 को One Digital Id के बारे में नागरिकों का सुझाव देने की अंतिम तिथि थी।

Conclusion

One Digital Id के बारे में मेरी राय यह है कि एक डिजिटल आईडी (One Digital Id) उन लोगों के लिए आवश्यक है जिन लोगों को डॉक्यूमेंट इधर उधर ले जाने पड़ते हैं एक साथ डाक्यूमेंट्स ले जाने में बहुत बार लोग अपना आधार कार्ड या पैन कार्ड ले जाना भूल जाते हैं तो उन लोगों के लिए यह One Digital Id सबसे अच्छा रहेगा।

जिन लोगों को इंटरनेट की ज्यादा जानकारी नहीं है तो उन लोगों के लिए One Digital Id नुकसानदायक भी रह सकता है क्योंकि भारत की अधिकांश जनता ज्यादा पढ़ी-लिखी नहीं है। 2025 के बाद से ही One Digital Id भारत में फायदेमंद साबित हो सकता है क्योंकि 2025 तक अधिकांश लोग डिजिटल रूप से जुड़ सकते हैं।

यह भी पढ़े: