Coding Se App Kaise Banaye – कोडिंग से घर बैठे ऐप कैसे बनाएं? पूरी जानकारी हिंदी में

यदि आप अपना प्ले स्टोर पर अपना ऐप कैसे बनाएं सोच रहे है तो हम अपना खुद का ऐप कैसे बनाएं? सम्पूर्ण जानकारी दूंगा जिससे कोड की मदद से खुदका मोबाइल ऐप बना सकते है।

नमस्कार दोस्तों, स्वागत है आप सभी का आज के इस बेहतरीन आर्टिकल में, दोस्तों आज की दुनिया एप्लीकेशन से घिरी हुई है, आजकल हर प्रकार की एप्लीकेशन है, आप यह आर्टिकल पढ़ रहे हैं तो शायद आप क्रोम पर पढ़ रहे होंगे, यह भी एक एप्लीकेशन है।

अपना खुद का ऐप कैसे बनाएं (Coding Se App Kaise Banaye)

जब आप यूट्यूब पर वीडियो देखते हैं तो यूट्यूब भी एक एप्लीकेशन है, ठीक इसी प्रकार से फेसबुक, इंस्टाग्राम जैसी हजारों मशहूर एप्लीकेशन लोगों की जरूरतें पूरी कर रही हैं।

WhatsApp Channel Join Now
Telegram Group Join Now

लेकिन इसी के बीच आपके मन में भी यह सवाल आया होगा कि मोबाइल से कोडिंग कैसे सीखे? और मोबाइल से ऐप कैसे बनाएं? आपने कहीं से कोडिंग के बारे में थोड़ा बहुत सुना होगा कि कोडिंग क्या होती है? 

इस आर्टिकल हम कोडिंग कहां से सीखे और कोडिंग से ऐप कैसे बनाएं? डिटेल में बताऊंगा और इसी के साथ-साथ मैं आपको बताऊंगा कि Ek App Banane Me Kitna Paisa Lagta Hai? तो आर्टिकल को आखिर तक जरूर देखिए।

Table Of Contents:

अपना खुद का ऐप कैसे बनाएं (Coding Se App Kaise Banaye)

आइए दोस्तों सबसे पहले मुख्य आर्टिकल देख लेते हैं और जान लेते हैं कि आप घर बैठे अपनी एक ऐप कैसे बना सकते हैं, यहां मैं आपको जिस भी टेक्नोलॉजी के बारे में बताऊंगा उसके बारे में डिटेल में जानकारी होगी कि आप वह कैसे और कहां पर सीख सकते हैं।

इस आर्टिकल में मैं आपके सारे डाउट क्लियर कर दूंगा, यहां मैं आपको कोडिंग से ऐप बनाने के तरीके बताऊंगा, और बहुत सी ऐसी प्रोग्रामिंग लैंग्वेज बताऊंगा जिनको सीख कर आप एक अच्छे एप डेवलपर बन सकते हैं।

यह आर्टिकल एक डिटेल आर्टिकल रहने वाला है, यहां पर मैं आपको एप्लीकेशन बनाने से लेकर एप्लीकेशन से पैसे कमाने तक के सारे तरीके बताऊंगा।

तो आइए दोस्तों अधिक समय खराब ना करते हुए जल्दी से जल्दी आर्टिकल को देख लेते हैं।

जावा में ऐप कैसे बनाएं?

जावा एप्लीकेशन डेवलपमेंट के लिए बहुत ही बेहतरीन प्रोग्रामिंग लैंग्वेज है, और पिछले कुछ दशकों से एप डेवलपमेंट के क्षेत्र में Java हमेशा आगे रही है।

Java क्या है? शुरुआत कैसे हुई? वगैरह किसी भी सवाल में हम नहीं जाएंगे, यहाँ मैं आपको वह बातें बताऊंगा जो आपके काम की होने वाली है, कि आप जावा में ऐप कैसे बना सकते हैं? और Java कैसे सीख सकते हैं।

App Development और App Designing में मुख्य अंतर

कोई भी एप्लीकेशन बनाने के लिए हमें मुख्य दो प्रकार की कोडिंग आनी चाहिए, पहली कोडिंग होती है डेवलपमेंट के लिए और दूसरी कोडिंग होती है डिजाइनिंग के लिए अब App डेवलपमेंट और डिजाइनिंग में क्या अंतर है?

यह जान लीजिए कि जब हम कोई एप्लीकेशन चलाते हैं, हमारे सामने कौन सा एलिमेंट किस रंग में आएगा, और किस Photo के बैकग्राउंड में क्या आएगा, यह सब डिसाइड केवल एक डिजाइनिंग Language में ही हो सकता है।

अगर आप Java में एप्लीकेशन बना रहे हैं, तो डिजाइनिंग के लिए XML नाम की एक लैंग्वेज का इस्तेमाल किया जाता है।

जावा में एप्लीकेशन कैसे बनाएं (Java Me Apna Apps Kaise Banaen)

जब आप जावा Programing लैंग्वेज और XML दोनों सीख जाएंगे तो उसके बाद आपको एप्लीकेशन बनाने के लिए एक एनवायरमेंट की जरूरत होती है, आसान भाषा में इसे हम “माहौल” भी कह सकते हैं।

मान लीजिए कि आपको रोटी बनानी आती है अब रोटी आटे, नमक, पानी जैसी मूलभूत चीजों से बनती है, लेकिन क्या आप इस रोटी को बिना तवे या बिना किसी बर्तन के बना सकते हैं, जब आप आटा गूंथेंगे तो भी आपको बर्तन की जरूरत होगी।

ठीक इसी प्रकार से प्रोग्रामिंग लैंग्वेज सीख लेने के बाद हमें एक बेहतरीन एनवायरमेंट सीखना होता है अगर आप Android Application बनाना चाहते हैं तो इसके लिए सबसे बेहतरीन एनवायरमेंट Android-Studio ही होता है।

एंड्राइड स्टूडियो क्या है? और कैसे चलाएं?

गूगल के ज्यादातर एप्लीकेशन Android-Studio में ही बनाई गई है आपकी जानकारी के लिए बता दूं कि एंड्राइड Google द्वारा ही बनाया किया गया है, और Android-Studio नामक यह सॉफ्टवेयर भी गूगल ने ही बनाया है।

यह सॉफ्टवेयर एक प्रकार का Runtime होता है जिसके अंदर हम एप्लीकेशन को चला सकते हैं यहां पर एप्लीकेशन बनाने का पूरा प्रोसेस से दिया जाता है।

Android-Studio में एप्लीकेशन बनाने के लिए डिजाइनिंग से डेवलपमेंट और फिर Testing तक के सारे काम हो सकते हैं, अगर आप Android-Studio चलाना चाहते हैं तो Android Studio Download करे।

एंड्राइड स्टूडियो डाउनलोड कैसे करें (Android Studio Download Kaise Karen)

एंड्राइड स्टूडियो ऐप डाउनलोड लिए आपको सबसे पहले Android-Studio की Official Application को डाउनलोड करना होगा, ध्यान रखिए कि यह केवल Computer या Laptop में ही संभव है।

Android Studio App Download कर लेने के बाद प्रोसेस आता है, Android-Studio सीखने का दोस्तों अगर आप एक बेहतरीन एप्लीकेशन बनाना चाहते हैं तो आपको पूरी जानकारी होनी चाहिए, अगर आप Java में एप्लीकेशन बनाना चाहते हैं तो आपको Java आना चाहिए और डिजाइनिंग के लिए XML आना चाहिए।

Android-Studio अपने कंप्यूटर में डाउनलोड करने के लिए नीचे डाउनलोड लिंक पर क्लिक करें, जैसे ही आप डाउनलोड लिंक पर क्लिक करेंगे तो नीचे फोटो में दिखाएं अनुसार, ऑफिशियल वेबसाइट पर पहुंच जाएंगे, यहां पर Download Android Studio के बटन पर क्लिक कीजिए।

Download Android Studio

एंड्राइड स्टूडियो डाउनलोड कैसे करें (Android Studio Download Kaise Karen)

Android-Studio की एप्लीकेशन डाउनलोड हो जाने के बाद, इसे अपने कंप्यूटर के अंदर इंस्टॉल कर लीजिए जब आप Android-Studio को इंस्टॉल करेंगे तो यह Java लैंग्वेज को खुद डाउनलोड कर लेगा, और इसी के साथ साथ है यह Application को सपोर्ट करने के लिए Android भी डाउनलोड कर लेगा।

इसके बाद नीचे बताए गए तरीके से सारी चीजें सीखिए और फिर Android-Studio में एप्लीकेशन बनाने का प्रोसेस शुरू कीजिए।

ऐप बनाने के लिए जावा कोडिंग कैसे सीखे मोबाइल से?

दोस्तों, आप अगर एप्लीकेशन बनाने के लिए Java सीखना चाहते हैं तो सबसे बेस्ट रहेगा कि आप गूगल के W3school से जावा सीखें, जहां पर आप को जावा प्रोग्रामिंग लैंग्वेज शुरू से लेकर आखिर तक पूरा सिखाया जाता है। 

अगर आप W3school से Java सीखना चाहते हैं तो नीचे दिए गए बटन पर क्लिक कर दीजिए, आप डायरेक्ट W3school के Java Tutorial पर पहुंच जाएंगे, लेकिन इससे पहले आर्टिकल को पूरा जरूर पढ़ लीजिए।

Java In W3school

इसके अलावा आप Java सीखने के लिए Youtube का इस्तेमाल भी कर सकते हैं, Youtube पर आपको ढेरों Tutorials मिल जाएंगे, जहां पर आप Java को शुरू से लेकर आखिर तक पूरा आसानी से सीख सकते हैं, यहां पर वीडियो फॉर्मेट में Content मिलता है, इसलिए Java सीखना बहुत ही आसान हो जाता है।

XML लैंग्वेज कैसे सीखे?

डिजाइनिंग कि यह बेहतरीन भाषा सीखने के लिए भी आप Youtube और W3school का इस्तेमाल कर सकते हैं, गूगल का W3school डिजाइनिंग की XML भाषा सीखने के लिए बहुत ही जबरदस्त है।

अगर आप W3school से सीखना चाहते हैं तो नीचे के बटन पर क्लिक करिए इसके अलावा यूट्यूब पर भी आपको बहुत से टुटोरिअल मिल जाएंगे।

एंड्राइड स्टूडियो कहां से सीखे (Android Studio Kaise Sikhe)

Android-Studio सीखने के लिए सबसे बेहतरीन जगह यूट्यूब है, यूट्यूब पर आपको Step By Step पूरी जानकारी दी जाती है, और ढेरों ऐसे टुटोरिअल मिल जाएंगे, जहां पर आप बेसिक से लेकर एडवांस तक Android-Studio को चलाना सीख सकते है।

आप कोई ऐसा Tutorial चुन सकते हैं जिसमें Android-Studio शुरू से आखिर तक सिखाया जा रहा हो, वहां पर आपको जावा और XML लैंग्वेज भी साथ ही सिखा दी जाएगी।

तो दोस्तों कुछ इस तरह से आप Java में एप्लीकेशन बनाने का प्रोसेस शुरू कर सकते हैं, Java में एक बेहतरीन एप्लीकेशन बनाने के लिए आपको कम से कम 6 महीने सीखना पड़ेगा,

और फिर अगले 6 महीने में बेहतरीन प्रैक्टिस करनी होगी, इसके बाद 1 साल में आप इस तरह से ट्रेंड हो जाएंगे कि आप किसी भी प्रकार की एप्लीकेशन जावा में बना पाएंगे।

React-Native में ऐप कैसे बनाएं?

रिएक्ट नेटिव एप्लीकेशन डेवलपमेंट के क्षेत्र में एक उभरता सितारा है, आज के समय फेसबुक एप्लीकेशन React-Native में ही बनाई गई है, React-Native कुछ इस प्रकार का डेवलपमेंट एनवायरमेंट हमें देता है कि एक बार Coad लिखने पर एंड्रॉयड और आईफोन दोनों के लिए एप्लीकेशन बन जाती है, यह भविष्य के लिए बहुत ही जबरदस्त है।

रिएक्ट नेटिव को फेसबुक के, Developers ने बनाया है, इसे मकसद यह था कि एक बार Coad लिखने पर Application वेबसाइट और सभी प्लेटफार्म के लिए सॉफ्टवेयर बनकर तैयार हो जाए।

यह नेटिव आने से पहले हमें अलग-अलग प्लेटफार्म के लिए अलग-अलग प्रोग्रामिंग लैंग्वेज का इस्तेमाल करके सॉफ्टवेयर को बनाना पड़ता था, जैसे कि अगर आप एंड्रॉयड के लिए एप्लीकेशन बनाते हैं।

तो आपको ज्यादा आना चाहिए अगर आप आईफोन के लिए एप्लीकेशन बनाना चाहते हैं तो आपको स्विफ्ट नाम की एक प्रोग्रामिंग लैंग्वेज आने चाहिए और ऐसे ही ढेरों प्रोग्रामिंग लैंग्वेज हमारे सामने थी।

React-Native ने इसी समस्या को सॉल्व कर दिया है, तो क्या रिएक्ट नेटिव चलाने के लिए किसी भी प्रोग्रामिंग लैंग्वेज का इस्तेमाल किया जा सकता है?

 जी नहीं दोस्तों, अगर आप React-Native चलाना चाहते हैं तो आपको Javascript आनी चाहिए यह Node Js के बिल्ट एनवायरमेंट पर काम करता है, इसके बारे में हम आगे देखेंगे कि Node Js क्या होता है और इसे कैसे डाउनलोड और इनस्टॉल किया जाता है।

क्या Javascript Java से अलग है?

अगर आप React-Native की एक एप्लीकेशन बनाना चाहते हैं तो आपको Javascript लैंग्वेज आनी चाहिए जावास्क्रिप्ट लैंग्वेज, जावा से बहुत अलग है, इन दोनों में फर्क है, वैसे तो सभी प्रोग्रामिंग लैंग्वेज का फंडामेंटल बिल्कुल एक जैसा ही होता है।

अगर आप कोई एक प्रोग्रामिंग लैंग्वेज समझ लेते हैं तो आपको समझ में आ जाता है कि प्रोग्रामिंग लैंग्वेज कैसे काम करती है और इसके बाद दूसरी लैंग्वेज सीखना बहुत ज्यादा आसान हो जाता है, Java और Javascript में बाकी प्रोग्रामिंग लैंग्वेज के जैसे ही फंडामेंटल है, लेकिन Javascript, Java से अलग है इसलिए इन दोनों को एक ना समझें।

Javascript का Use कहा किया जाता है?

जावास्क्रिप्ट लैंग्वेज वेब डेवलपमेंट में Frontend बनाने के लिए बनाई गई थी, जब आप कोई वेबसाइट खोलते हैं तो उस वेबसाइट के Frontend की सारी प्रोसेसिंग जावास्क्रिप्ट में ही होती है।

जैसे आप किसी बटन पर क्लिक करते हैं और आपके सामने एक पॉपअप खुलकर आता है, यह जावास्क्रिप्ट में होता है, लेकिन यह आपके ब्राउजर में स्थित जावास्क्रिप्ट के V8 इंजन के कारण होता है।

कुछ डेवलपर ने जावास्क्रिप्ट के इस V8 इंजन से C, C++ प्रोग्रामिंग लैंग्वेज में कोडिंग करके Node.Js नाम का एक रनटाइम बना दिया, जिससे कि यह प्रोग्रामिंग लैंग्वेज ब्राउज़र से बाहर निकल गई और इसे अब फ्रंटेंड के साथ-साथ बैकऐंड में भी इस्तेमाल किया जाता है।

यह सब आपको बहुत अधिक कन्फ्यूजिंग लग रहा होगा, लेकिन घबराइए नहीं, वेब डेवलपमेंट और कोडिंग की दुनिया इतनी भी मुश्किल नहीं है, जितनी आप सोच रहे हैं जब आप शुरू करेंगे तो आपके लिए बहुत ही आसान हो जाएगा और चीजें बहुत जल्दी जल्दी समझ में आने लगेगी।

React-Native को डाउनलोड और सेटअप करना

जैसा कि मैंने आपको ऊपर आर्टिकल में बताया था कि कोई भी प्रोग्रामिंग लैंग्वेज सीख लेने के बाद में आपको एक एनवायरमेंट चाहिए होता है, जहां पर आप कोड लिख सकते हैं और कोड को एग्जीक्यूट करके एप्लीकेशन बना सकते हैं।

जब आप जावास्क्रिप्ट में मोबाइल एप्लीकेशन बनाएंगे, तो यहां पर Vs Coad सबसे बेहतरीन सॉफ्टवेयर माना जाता है, यह केवल Notepad की तरह ही एक सॉफ्टवेयर है, लेकिन इसमें कोडिंग के लिए अलग से बहुत से फीचर दिए जाते हैं।

नीचे डाउनलोड बटन पर क्लिक करके विजुअल स्टूडियो कोड को अपने कंप्यूटर में डाउनलोड कर लीजिए।

Download VS Code

Coding For App Development - मोबाइल से ऐप कैसे बनाएं

विजुअल स्टूडियो कोड डाउनलोड करने के बाद आपको Node.Js को डाउनलोड करना होता है, यह एक रन टाइम है, जो हमारी एप्लीकेशन को सपोर्ट करेगा, जब आप जावास्क्रिप्ट में कोड लिखेंगे तो कोड को एग्जीक्यूट करने के लिए जावास्क्रिप्ट समझने वाला रनटाइम जरूरी होता है, Node.Js सबसे बेहतरीन है।

Download Nodejs

Khud Ki App Kaise Banaye - प्ले स्टोर पर अपना ऐप कैसे बनाएं

जब आप यह सारी चीजें सेटअप कर लेंगे तो इसके बाद आपके दिमाग में यह आएगा, कि आपको तो जावास्क्रिप्ट आती ही नहीं और ना आपको विजुअल स्टूडियो जैसी चीजें चलानी आती है, तो आप एप्लीकेशन कैसे बनाएंगे? 

तो दोस्तों आपको बता दूं कि यह सभी चीजें सीखना बहुत ही आसान है, आइए कुछ सोर्स देख लेते हैं, जिससे कि आप जावास्क्रिप्ट, नोड जेएस और विजुअल स्टूडियो जैसी चीजें सीख सकते हैं।

Javascript कैसे सीखे?

दोस्तों अगर आप जावास्क्रिप्ट सीखना चाहते हैं तो इसके लिए आप गूगल के W3school पर जा सकते हैं यहां मैं आपको एक लिंक दे रहा हूं, जिससे कि आप गूगल के W3school का डायरेक्ट Tutorial हासिल कर सकते हैं, जहां पर आप जावास्क्रिप्ट स्टेप बाय स्टेप सीख सकते हैं।

इसके अलावा यूट्यूब भी बहुत ही बेहतरीन ऑप्शन है, यूट्यूब पर आपको हजारों ऐसे टुटोरिअल मिल जाएंगे, जहां पर आप जावास्क्रिप्ट बड़ी आसानी से सीख सकते हैं।

Javascript In w3School

विजुअल स्टूडियो कोड कैसे सीखे

विजुअल स्टूडियो सॉफ्टवेयर आप प्रोग्रामिंग लैंग्वेज सीखते सीखते साथ में सीख जाएंगे, जब आप यूट्यूब पर जावास्क्रिप्ट के Tutorial देखेंगे, तो वहां पर ज्यादातर लोग Vs Code नाम के सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल ही करते हैं।

आप इस सॉफ्टवेयर को रिप्लेस भी कर सकते हैं और किसी दूसरे सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल भी कर सकते हैं, क्योंकि यह केवल कोड लिखने के काम आता है।

React-Native कैसे सीखे?

सबसे पहले आपको जावास्क्रिप्ट सीखनी चाहिए जावास्क्रिप्ट सीखने के बाद आपको React-Native सीखना चाहिए React-Native सीखने के लिए आप यूट्यूब की सहायता लीजिए, यहां पर आपको React-Native सबसे सही समझ आएगा, इसके अलावा आप गूगल पर रिएक्ट नेटिव लिखकर रिएक्ट नेटिव की ऑफिशियल डॉक्यूमेंटेशन में भी जा सकते हैं।

Node.Js कैसे सीखे?

जावास्क्रिप्ट सीखने के बाद Node-Js को सीखना बहुत जरूरी होता है, क्योंकि यह जावास्क्रिप्ट का रन टाइम है, जब आप React-Native सीखेंगे, तो आप आसानी से Node.Js सीख जाएंगे।

Coding में क्या होता है?

दोस्तों किसी भी प्रोग्रामिंग लैंग्वेज के फंडामेंटल बिल्कुल सेम होते हैं, फंडामेंटल का यहां पर मेरा मतलब है किसी भी प्रोग्रामिंग लैंग्वेज के काम करने का तरीका मुख्यतः प्रोग्रामिंग लैंग्वेज नीचे बताए गए कुछ फंडामेंटल के आधार पर कार्यरत होती हैं।

1. Variable – कोई भी वेरिएबल प्रोग्रामिंग लैंग्वेज में डाटा स्टोर करने का कार्य करता है यह हम कुछ इस प्रकार करते हैं Name = Anees यहां पर Name नाम के वेरिएबल में अनीश नाम की एक स्ट्रिंग डाटा सेव हो चुका है, जब भी हम प्रोग्रामिंग लैंग्वेज में वेरिएबल का इस्तेमाल करते हैं तो वेरिएबल में कई प्रकार के डाटा टाइप होते हैं इसमें आप कोई भी स्ट्रिंग, नंबर, बूलियन, ऐरे जैसी चीजें शामिल कर सकते हैं।

2. Function – किसी भी प्रोग्रामिंग लैंग्वेज में हम फंक्शन बनाते हैं जिसको हम लैंग्वेज में एग्जीक्यूट कर सकते हैं हम अपनी एप्लीकेशन के हिसाब से कोई खास फंक्शन बना सकते हैं जिसका एप्लीकेशन में कोई इस्तेमाल होता है।

3. Loop – किसी भी प्रोग्रामिंग लैंग्वेज में हमेशा Loop चल रहे होते हैं, चाहे किसी भी प्रकार की कोई प्रोग्रामिंग लैंग्वेज हो उसमें Loop का इस्तेमाल तो होता ही है, Loop का अर्थ होता है एक समान कोई कार्य करना, जैसे कि आप 1 से लेकर 1000 तक कोई गिनती लिखना चाहते हैं तो वह सबसे पहले एक लिखेगा और उसके बाद हजार बार एक-एक जुड़ता जाएगा, इस प्रकार के बहुत से कार्य आप Loop की सहायता से कर सकते हैं।

4. API – हर एक प्रोग्रामिंग लैंग्वेज में एपीआई का कांसेप्ट होता है एपीआई का अर्थ एप्लीकेशन प्रोग्रामिंग इंटरफेस होता है जिससे कि एक लैंग्वेज में बनी एप्लीकेशन दूसरे लैंग्वेज में बनी एप्लीकेशन के साथ बातचीत कर सकती है और डाटा रिसीव कर सकती है, यानी कि अगर आपने जावास्क्रिप्ट में एप्लीकेशन बनाई है और कोई दूसरी एप्लीकेशन या सरवर पाइथन में चल रहा है तो उसके साथ डाटा शेयर करने के लिए एपीआई का इस्तेमाल करना पड़ता है।

5. Database – वैसे तो डेटाबेस प्रोग्रामिंग का हिस्सा नहीं होता है, क्योंकि यह एक अलग टॉपिक है, लेकिन आपको इसके बारे में पता होना चाहिए, जब आप प्रोग्रामिंग लैंग्वेज सीखते हैं, तो आपको कोई एक डेटाबेस भी सीखना होता है, डेटाबेस बिलकुल एक स्टोरेज के जैसे होता है, जहां पर आप कुछ डाटा स्टोर कर सकते हैं, किसी भी एप्लीकेशन को आप बिना डेटाबेस के नहीं बना सकते।

6. मेकिंग एंड टेस्टिंग एनवायरमेंट – चाहे आप किसी भी प्रोग्रामिंग लैंग्वेज में एप्लीकेशन बना लो, आपको एक एनवायरमेंट तो चाहिए ही होगा जब आप जब आप एप्लीकेशन बनाएंगे तो आप Android-Studio का इस्तेमाल कर रहे होंगे और अगर आप जावास्क्रिप्ट में एप्लीकेशन बनाएंगे तो आप Node.Js और विजुअल स्टूडियो का इस्तेमाल कर रहे होंगे।

7. ऐरे और ऑब्जेक्ट – हर एक प्रोग्रामिंग लैंग्वेज में ऐरे और ऑब्जेक्ट का कांसेप्ट होता है, यह डाटा स्टोर करने के लिए एक प्रकार की वैल्यू होती है, खासकर जावास्क्रिप्ट लैंग्वेज में ऐरे और ऑब्जेक्ट का बहुत अधिक इस्तेमाल होता है, तो जब आप जावास्क्रिप्ट सीख रहे होंगे तो आप इन कांसेप्ट को अच्छे से याद कर लीजिए, आगे चलकर आपको यह चीजें बहुत अधिक काम आने वाली हैं।

प्रोग्रामिंग लैंग्वेज में बहुत सी चीजें होती हैं, यहां पर मैंने आपको उनमें से कुछ बताई हैं, आइए अब ऐप बनाने के बारे में और जान लेते हैं और जान लेते हैं, कि आप किसी खास प्रकार के एप्लीकेशन को किस प्रकार से बना सकते हैं और पैसे कमाने जैसे जरूरी जानकारी भी हम यहां पर देखेंगे।

घर बैठे ऐप कैसे बनाएं? (Khud Ki App Kaise Banaye)

ऊपर मैंने आपको कोडिंग से एप्लीकेशन बनाने के जो दो मुख्य तरीके बताए हैं, इनकी सहायता से आप घर बैठे आसानी से एप्लीकेशन बना सकते हैं, अगर आप घर बैठे एप्लीकेशन बनाना चाहते हैं,

आपको कुछ महीने तक एप्लीकेशन बनाना सीखना होगा, आपको मैंने ऊपर दो टेक्नोलॉजी बताई है, अगर मैं रेकोमेंड करूं तो आप React-Native सीख लीजिए, क्योंकि रिएक्ट नेटिव सीखने के बाद आप आईफोन और एंड्रॉयड दोनों के लिए एप्लीकेशन आसानी से डेवलप कर पाएंगे।

घर बैठे अगर आप गेम बनाना चाहते हैं तो भी बहुत आसान है, यहां पर आप React-Native और जावा की सहायता से घर बैठे गेम भी बना सकते हैं, जावा तो गेम बनाने में इस्तेमाल होने वाली टॉप लैंग्वेज में से एक है,

अगर आप जावा लैंग्वेज का चुनाव करते हैं तो आप आसानी से गेम बना सकते हैं, इसके अलावा React-Native में भी आप बहुत से बेहतरीन गेम बना सकते हैं ।

अगर आप अपने गेम बनाने की जर्नी को बहुत ही एडवांस बनाना चाहते हैं तो आप पाइथन जैसी लैंग्वेज का इस्तेमाल भी कर सकते हैं, पाइथन भी जावा और जावास्क्रिप्ट जैसे ही एक प्रोग्रामिंग लैंग्वेज होती है, 

और इसको भी आप तीन से चार महीने लगाकर आसानी से सीख सकते हैं, इसके भी कुछ रन एनवायरमेंट होते हैं जो आप पाइथन सीखते हुए सीख सकते हैं, पाइथन में गेम बनाना काफी आसान होता है और इसमें आप बहुत से एडवांस गेम भी बना सकते हैं।

3D में गेम कैसे बनाएं (Apna Game App Kaise Banaye)

गेम बनाने के लिए आपको कोडिंग के साथ-साथ डिजाइनिंग भी बहुत बेहतरीन आनी चाहिए, अगर आप पब्जी जैसा कोई गेम बनाना चाहते हैं, तो आपको बता दूं कि इसके लिए आपको बहुत से बेहतरीन डिजाइनिंग सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल करना होता है, 

जिसमें आप 3D में कुछ चीजें डिजाइन कर पायें, जैसे कि ब्लेंडर सॉफ्टवेयर में आप 3D में ऑब्जेक्ट बना सकते हैं जो कि आप अपने गेम में इस्तेमाल कर सकते हैं, पब्जी गेम अनरियल इंजन पर बना हुआ है, अनरियल इंजन भी एक बहुत ही बेहतरीन सॉफ्टवेयर है जिसमें आप 3D में आइटम बना सकते हैं।

इसके अलावा ऑफ यूनिटी का इस्तेमाल भी कर सकते हैं यूनिटी गेम बनाने की बहुत बड़ी कंपनी है और यूनिटी कंपनी अपना एक सॉफ्टवेयर भी देती है जिसमें आप बिना किसी कोडिंग के आसानी से गेम डेवलपमेंट कर सकते हैं।

एजुकेशन ऐप कैसे बनाएं (Apna Online App Kaise Banaye)

एजुकेशन की एप्लीकेशन बनाना भी कोई बड़ी मुश्किल बात नहीं है जब आप एप्लीकेशन बनाना सीख जाएंगे तो कोई भी एजुकेशन एप्लीकेशन बनाना आपके लिए बहुत ही आसान हो जाएगा एजुकेशन एप्लीकेशन में क्या चाहिए।

अगर आप किसी को पढ़ाने वाली एप्लीकेशन चाहते हैं तो आप लाइव वीडियो कॉल वाली एप्लीकेशन बनाना चाहेंगे इसके अलावा अगर आप कुछ शेयर करना चाहते हैं तो आप व्हाट्सएप के जैसे चैट वाली एप्लीकेशन बनाएंगे या ऑनलाइन कुछ बेचने वाली एप्लीकेशन बनाएंगे।

यह सभी कोडिंग में बनाना बहुत ज्यादा आसान होता है और रियेक्ट नेटिव में एजुकेशन एप्लीकेशन को बनाना और भी आसान हो जाता है।

ख़ानअकैडमी और स्किल शेयर जैसी बेहतरीन एप्लीकेशन भी React-Native में बनाई गई है, इसके अलावा बड़े-बड़े टॉप यूनिवर्सिटी और कॉलेज भी React-Native की सहायता से एप्लीकेशन बनाते हैं और बच्चों को ऑनलाइन पढ़ाते हैं।

आजकल रिमोट लर्निंग का जमाना है और ऑनलाइन पढ़ाने का स्कोप भविष्य में बहुत अधिक बढ़ने वाला है, इसलिए आप भी React-Native का एनवायरनमेंट सीख सकते हैं और कोई एजुकेशन एप्लीकेशन बना सकते हैं।

टिक टॉक जैसी एप्लीकेशन कैसे बनाएं?

जबसे टिकटोक ने भारत में धूम मचाई है और इसके बाद यह अचानक से बैन हो गया तो बहुत से जिज्ञासु लोग यह जानना चाहते हैं कि टिक टॉक जैसी एप्लीकेशन कैसे बनाई जाती हैं, तो आपकी जानकारी के लिए बता दूं कि टिकटोक एप्लीकेशन एक वीडियो शेयरिंग प्लेटफार्म है 

और अगर आप वीडियो शेयरिंग प्लेटफार्म बनाना चाहते हैं, तो ऊपर मैंने आपको React-Native बताया था, आप नेटफ्लिक्स के बारे में तो जानते ही होंगे नेटफ्लिक्स भी Node.Js की सहायता से बनाया गया है, इसलिए आप React-Native में बड़े ही आसानी से टिकटोक जैसी कोई भी एप्लीकेशन बना सकते हैं।

इसके अलावा सबसे बड़ा मोटिवेशन यह है कि फेसबुक और इंस्टाग्राम भी React-Native में ही बनाये गए है, फेसबुक इंस्टाग्राम में भी रील का ऑप्शन होता है, जो बिल्कुल टिकटोक जैसे ही हैं।

इसके अलावा आप जावा में भी टिक टॉक जैसी एप्लीकेशन बना सकते हैं, टिकटोक जैसी एप्लीकेशन बनाने के लिए सबसे पहले तो आपको कोई एक टेक्नोलॉजी सीखनी होगी, 

और उसके बाद एप्लीकेशन बनाने का प्रोसेस शुरू करना होगा, जब आप किसी एक टेक्नोलॉजी को बहुत अच्छे से सीख लेंगे, तो टिकटोक जैसी एप्लीकेशन बनाने में आपको एक महीना और ज्यादा से ज्यादा 2 महीने ही लगेंगे।

प्ले स्टोर पर अपना ऐप कैसे बनाएं?

प्ले स्टोर के बारे में तो आप जानते ही होंगे यह एंड्रॉयड एप्लीकेशन डाउनलोड करने का सबसे बेहतरीन और ऑफिशियल प्लेटफार्म है सभी मुख्य एप्लीकेशन प्ले स्टोर पर लिस्ट की हुई होती है 

जब आप अपनी एप्लीकेशन बनाएंगे तो उसे लोगों तक पहुंचाने के लिए आपको प्ले स्टोर का इस्तेमाल करना होगा, प्ले स्टोर पर एप्लीकेशन के अलावा किताबें और बाकी चीजें भी आप खरीद सकते हैं लेकिन मुख्यतः प्ले स्टोर का इस्तेमाल एप्लीकेशन के लिए ही किया जाता है।

अगर आप किसी भी प्रकार की एप्लीकेशन को प्ले स्टोर पर लिस्ट करना चाहते हैं तो आपको बता दूं कि यहां पर एप्लीकेशन लिस्ट करने कि कुछ गाइडलाइन होती है, जिनका आपको पालन करना होता है, सबसे पहले तो एप्लीकेशन एक स्टैंडर्ड क्वालिटी को Meet करनी चाहिए, 

यानी कि आपकी एप्लीकेशन में कुछ क्वालिटी होनी चाहिए, इसके बाद प्ले स्टोर द्वारा बेन की जा रही एप्लीकेशन जैसी एप्लीकेशन आप की नहीं होनी चाहिए, यानी कि आप कोई सट्टे, सेक्सुअल या सेल हार्म वाली एप्लीकेशन प्ले स्टोर पर नहीं डाल सकते हैं।

इसके अलावा प्ले स्टोर पर एप्लीकेशन डालने की फीस भी होती है, यह एक बार गूगल प्ले कंसोल का अकाउंट बनाने की फीस होती है, गूगल Place Console का अकाउंट बनाने की $25 फीस होती है।

जिसके बाद आप अनगिनत एप्लीकेशन गूगल प्ले स्टोर पर पब्लिश्ड कर सकते हैं, गूगल प्ले कंसोल का अकाउंट बनाने के बाद एप्लीकेशन पब्लिश करने के अलावा भी अनगिनत छूट आपको मिलती है।

भारतीय रुपयों में फिलहाल $25 की कीमत लगभग ₹2055 है, डॉलर के रेट के हिसाब से यह फीस ऊपर नीचे भी हो सकती हैं, जब आप प्ले कंसोल का अकाउंट बनाएंगे तो यह फीस जमा करवाने के बाद ही आपका अकाउंट पूर्ण रूप से बन पाएगा।

गूगल प्ले कंसोल का अकाउंट बन जाने के बाद आपको एक एडमिन पैनल दे दिया जाता है, इस एडमिन पैनल से आप अपनी बनी हुई एप्लीकेशन को प्ले स्टोर पर डाल सकते हैं और इसके बाद आप यहां से डिसाइड कर सकते हैं कि यह एप्लीकेशन फ्री में होगी या पैसों में लोगों को जाएगी।

इसके अलावा आप यहां से एप्लीकेशन के डाउनलोड और एप्लीकेशन के वर्जन को भी डिसाइड कर सकते हैं, जब आपको कोई नया वर्जन देना होगा तो आप एक अपडेट भी प्ले कंसोल की सहायता से आसानी से दे पाएंगे, प्ले कंसोल में आपको वे सभी ऑप्शन मिलते हैं, जिससे कि आप अपनी एप्लीकेशन का स्टेटस देख सकते हैं और बाकी के जरूरी काम कर सकते हैं।

कोडिंग से एप बनाकर पैसे कैसे कमाए (Coding Se Paise Kaise Kamaye)

Coding Karke Paise Kaise Kamaye इसके लिए कोडिंग से एप्लीकेशन बनाने का पूरा प्रोसेस मैंने आपको बता दिया है, इसके अलावा अगर आपको यह जानना है कि एप्लीकेशन बन जाने के बाद आप एप्लीकेशन से पैसे कैसे कमा सकते हैं।

तो यहां पर एप्लीकेशन से पैसे कमाने के बहुत से तरीके होते हैं जब आप एप्लीकेशन और गेम बनाना सीख जाएंगे तो पैसे कमाने के बहुत से रास्ते खुल जाएंगे, अगर इनमें से कुछ मुख्य रास्तों के बात करूं,

तो एडवर्टाइजमेंट से पैसे कमाना, प्लेटफॉर्म बेचकर पैसे कमाना एप्लीकेशन बनाने के पैसे और कुछ अन्य तरीके भी शामिल है आइए इनके बारे में डिटेल से देख लेते हैं।

1. Application में Ad से पैसा कमाना

जब आप अपनी एप्लीकेशन को प्ले स्टोर पर पब्लिश कर देंगे, तो गूगल की ही एडमॉब नाम की एक अलग सर्विस होती है, एडमॉब पर आप अपनी एप्लीकेशन में एडवर्टाइजमेंट लगा सकते हैं, 

ध्यान रखिए कि एप्लीकेशन में एडवर्टाइजमेंट एप्लीकेशन को बनाते समय ही लगाने होती है, पब्लिक हो जाने के बाद आपको नया अपडेट देना होगा, जिससे कि ऐड आएगी, इससे अच्छा रहेगा कि आप एप्लीकेशन बनाते समय ही वहां पर एडवर्टाइजमेंट लगा दें।

Admob से एप्लीकेशन में एडवर्टाइजमेंट देने के लिए आपको एडमॉब का अकाउंट बनाना होता है, और वहां से गूगल का कोड कॉपी करके अपनी एप्लीकेशन की कोडिंग में पेस्ट करना होता है।

यह भी एक प्रकार का जावास्क्रिप्ट कोड ही होता है जो कि आपकी एप्लीकेशन के हिसाब से मॉडिफाई हो सकता है।

यहां पर आप बैनर ऐड लिमिटेड और लेबल ऐड जैसी बहुत ही ऐड आसानी से अपनी एप्लीकेशन के अंदर लगा सकते हैं एप्लीकेशन में एडवर्टाइजमेंट लगाने की भी एक गाइडलाइन होती है जिसको पहले पूरा पढ़ लेना चाहिए वरना आपकी एप्लीकेशन बेन हो सकती हैं।

2. Application बनाकर पैसे कमाए

आज के समय में एप डेवलपर की डिमांड बहुत अधिक है, अगर आपको एप्लीकेशन बनानी आती है तो आप किसी और के लिए एप्लीकेशन बनाकर पैसा कमा सकते हैं, 

एप्लीकेशन जगत में कमाई बहुत ज्यादा होती है, लोग एक एप्लीकेशन बनाने के 1 से ₹2 लाख तक आसानी से ले लेते हैं, इसके अलावा यह आप पर निर्भर करता है कि आपको कितनी बेहतरीन एप्लीकेशन बनानी आती है, जितना ज्यादा आप सीखेंगे उतनी ही आपकी कमाई बढ़ती जाएगी।

आप अपने आसपास के लोकल क्लाइंट को ले सकते हैं आप किसी दुकानदार से उस दुकान की एप्लीकेशन बनाने के बारे में कह सकते हैं ज्यादातर मामलों में लोग राजी हो जाते हैं 

आप किसी लोकल बिजनेस को टारगेट कर सकते हैं और उसको एप्लीकेशन के फायदे बता सकते हैं कि किस तरह से वह ऐप बनाने के बाद अपने कारोबार में विकास कर सकता है जिससे कि वह आपको एप्लीकेशन बनाने का प्रोजेक्ट दे सकें।

इसके अलावा आप एजुकेशन एप्लीकेशन बना सकते हैं, इसके लिए आप किसी स्कूल या लोकल इंस्टिट्यूट को टारगेट कर सकते हैं, उनको आप बता सकते हैं कि किस तरह वह भी फिजिक्स वाला और अन्य बेहतरीन एजुकेशन कंपनियों की तरह आगे बढ़ सकते हैं।

3. Software बेचकर पैसे कमाए

अगर आप कोडिंग से एप्लीकेशन बनाकर प्लेटफार्म बेचना चाहते हैं तो इसका मतलब है कि आप मोटी कमाई की तरफ हाथ बढ़ा रहे हैं, उदाहरण के लिए 2 लोगों ने मिलकर व्हाट्सएप 2013 में बनाया था।

और फिर इसे फेसबुक ने मिलियंस ऑफ़ डॉलर देकर खरीद लिया था, इसी प्रकार से इंस्टाग्राम को भी खरीदा गया था, यूट्यूब को गूगल ने खरीद लिया था, आप भी कोई बहुत बड़ा बेहतरीन प्लेटफार्म बना सकते हैं।

 जिसकी लोगों में डिमांड हो जाए, डिमांड बढ़ने के बाद आप अच्छा इन्वेस्टर देखकर इन्वेस्टमेंट उठा सकते हैं, या आप किसी दूसरे बिजनेस को अपना प्लेटफार्म बेच सकते हैं, सॉफ्टवेर बेचने में कमाई बहुत अधिक होती है और बेहतरीन प्लेटफार्म की कमाई करोड़ों में जाती है।

FAQs:

अपने संगठन का App कैसे बनाएं?

अगर आप अपने संगठन का ऐप बनाना चाहते हैं तो आपको कुटुंब ऐप की तरफ बढ़ना चाहिए, कुटुंब एक बेहतरीन एप्लीकेशन है, जिसमें आप अपने संगठन का एक एप्लीकेशन बना सकते हैं।

यहां पर आपको किसी भी प्रकार की कोई कोडिंग की आवश्यकता नहीं होगी, इसके अलावा अगर आप कोडिंग की सहायता से एप्लीकेशन बनाना चाहते हैं तो आपको बता दूं कि आप React-Native या जावा की सहायता से आसानी से अपने संगठन का ऐप बना सकते हैं।

क्या App बनाने के लिए पैसा लगता है?

एप्लीकेशन बनाने के लिए आपको किसी भी प्रकार के कोई पैसे नहीं देने होते हैं, लेकिन अगर आप एप्लीकेशन ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर लांच करना चाहते हैं तो आपको पैसे देने होंगे।

इसके अलावा अगर आप अपने एप्लीकेशन में कुछ एडवांस फीचर ऐड करना चाहते हैं तो भी पैसे देने होते हैं।

अगर आप ऑनलाइन एप्लीकेशन बना रहे हैं तो सर्वर के पैसे लगेंगे और सर्वर के साथ-साथ आपको डोमेन नेम भी लेना होता है, जिस पर आप आगे चलकर वेबसाइट भी बना सकते हैं, इसके भी पैसे लगते हैं।

Android में App कैसे बनाएं?

एंड्राइड एप्लीकेशन बनाने के लिए आप जावा सीख कर Android-Studio का इस्तेमाल कर सकते हैं और इसके अलावा सबसे बेहतरीन तरीका React-Native का इस्तेमाल करना होता है।

इसके लिए आपको जावास्क्रिप्ट सीखनी होगी और Node.Js की इंफॉर्मेशन भी होनी चाहिए।

React-Native की सहायता से एप्लीकेशन बनाने का सबसे बड़ा फायदा यह होता है कि जब आप एंड्राइड एप्लीकेशन बनाएंगे तो साथ के साथ आईफोन के लिए भी एप्लीकेशन बन जाएगी।

एक बार कोड लिखना है और आप एंड्राइड आईफोन और वेब के लिए एप्लीकेशन आसानी से डेवलप कर पाएंगे।

घर बैठे गेम कैसे बनाएं?

घर बैठे गेम बनाने के लिए आप जवा या React-Native का इस्तेमाल कर सकते हैं, इसके अलावा अगर आप एक 3D गेम बनाना चाहते हैं तो आपको डिजाइनिंग की इंफॉर्मेशन बहुत ज्यादा होनी चाहिए।

अगर आपको बेहतरीन डिजाइनिंग आती है, तो आपका गेम भी बेहतरीन ही बनेगा, आप 3D डिजाइनिंग वाले को सॉफ्टवेयर को आसानी से सीख सकते हैं।

अगर आप बस शुरुआत करना चाहते हैं तो आप अपनी शुरुआत यूनिटी से कर सकते हैं, यूनिटी एक कंपनी है जो 3D गेम डिजाइनिंग के लिए आपको बेहतरीन प्लेटफार्म उपलब्ध करवाती है।

Conclusion:

तो दोस्तों कैसा लगा आपको आज का यह आर्टिकल, इस आर्टिकल में हमने कोडिंग से एप कैसे बनाएं? पूरी जानकारी ली है, यहां पर मैंने आपको कोडिंग से एप्लीकेशन बनाने के 2 बेहतरीन तरीकों के बारे में बताया है।

पहले तरीके में मैंने आपको Java लैंग्वेज के बारे में पूरा समझाया है और दूसरे तरीके में मैंने आपको React-Native के बारे में बताया है, और Javascript सीखने के प्रोसेस के बारे में जानकारी ली है।

इसके अलावा घर बैठे गेम बनाना एंड्रॉयड के लिए एप्लीकेशन बनाना और एप्लीकेशन से पैसे कमाने जैसे चीजों को भी बहुत अच्छे से जाना है।

आशा करता हूं कि आपको यह जानकारी पसंद आई होगी और इसे आप अपने करीबी जिज्ञासु दोस्तों के पास जरूर भेजेंगे, मिलते हैं आप से किसी नइ जानकारी मैं नए आर्टिकल के साथ।

😎 आर्टिकल अपने दोस्त को भेजे:
earnmaniya.com

EarnManiya.com एक बढ़िया हिंदी ब्लॉग है जिसपर Online Paise Kaise Kamaye, Paisa Kamane Wala Games और Paisa Kamane Wala App Download की जानकारी दे रही है। अगर आपको घर बैठे ऑनलाइन पैसे कमाना है तो EarnManiya.com को Follow कर सकते है।

Leave a Comment

error: Content is protected !!